अमेरिका ने पाकिस्तान की आखिरी उम्मीद पर पानी फेरा !

Follow us:

dff
MEN

पाकिस्तान की आर्थिक सुधार के लिए अमेरिया करेगा 20 करोड़ डॉलर का योगदान:- पाकिस्तान इस समय इतिहास के सबसे बुरे आर्थिक दौर से गुजर रहा है। हालत दिन पर दिन बत से बदतर होते जा रहे हैं। इस संकट से उबरने के लिए पाकिस्तान लगातार आईएमएफ और दूसरे देशो का मुँह ताक रहा है। और इसी बीच पाकिस्तान को अमेरिका से बड़ा झटका मिला है। पाकिस्तान के उम्मिद के आखिरी किरण अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष, यानी की आईएमएफ है। पाकिस्तान लगातार आईएमएफ से वेलॉक प्रोग्राम के तहत कर्ज लेने की कुछ शर्तो में छूट की मांग कर रहा है। ऐसे में आईएमएफ में दबदबा रखने वाले आमेरिका ने इस मामले में अपना रिएक्शन दिया है। दरअसल, अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता प्राइस ने कहा अमेरिका चाहता है कि पाकिस्तान आर्थिक सुधारो पर लगातार आगे बढ़ता रहे। प्रेस कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान को आईएमएफ की ओर से छूट देने के सवाल पर नेड प्राइस ने कहा कि, अंत में यह आईएमएफ को ही तय करना है कि वह शर्तों में छूट देने के लिए तैयार है या नहीं। नेड प्राइस ने आगे कहा कि, हम पाकिस्तान को सुधार की राह पर देखना चाहते हैं। पाकिस्तान के सहयोगी बनना चाहते हैं।

पाकिस्तान को हर आर्थिक स्थिति मे साथ देगा अमेरिका 

PAKISTAN AND AMARICA

आईएमएफ ने पाकिस्तान की सरकार को खर्च में 

कटौती, टैक्स और निर्यात में बढ़ोतरी के जरिए राजस्व बढ़ाने के लिए कहा है। इस दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने ये भी कहा  कि जब-जब पाकिस्तान में सुरक्षा, आर्थिक या मानवीय संकट होगा, अमेरिका उसका हमेशा साथ देगा। नेड प्राइस ने कहा कि पिछले साल पाकिस्तान में आई बाढ़ के बाद से ही अमेरिका लगातार पाकिस्तान के साथ मिलकर इससे उबरने के लिए उसकी मदद कर रहा है। वही अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता प्राइस ने पाकिस्तान को अतिरिक्त सहायता भी देने का ऐलान किया है। नेड प्राइस ने कहा कि, पाकिस्तान को अमेरिका की ओर से अतिरिक्त 10 करोड़ डॉलर की आर्थिक मदद की जा रही है। यह मदद पाकिस्तान को फिर से उबरने के लिए दी जा रही है। इस मदद के बाद पाकिस्तान के आर्थिक सहयोग में अमेरिका का योगदान 20 करोड़ डॉलर का हो जाएगा। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि, 10 करोड़ डॉलर की जो मदद अब की जा रही है, यह सहायता बाढ़ सुरक्षा, आर्थिक विकास, स्वच्छ ऊर्जा, जलवायु-स्मार्ट कृषि, खाद्य सुरक्षा और बुनियादी ढांचे के पुनर्निमाण के लिए दी जा रही 

इमरान खान के कंधों पर आई एक बड़ी जिम्मेवारी 

Imran khan

है। इस फंडिंग में बाढ़ पीड़ितों के लिए मानवीय मदद भी शामिल है। वही साल 2022 पीटीआई चीफ और तत्कालीन प्रधानमंत्री इमरान खान अविश्वास प्रस्ताव में अपनी सरकार नहीं बचा पाए। जिसके बाद शहबाज शरीफ ने अन्य पार्टियों के साथ मिलकर सरकार बनाई। पीएम पद की जिम्मेदारी संभालते ही शहबाज शरीफ के कंधों पर आर्थिक परेशानी का बोझ भी आ गया। शहबाज शरीफ ने सही से कुर्सी भी नही संभाली थी कि जुलाई और अगस्त में बाढ़ आई थी। जिसकी भरपाई के लिए पाकिस्तानी सरकार आईएमएफ समित अंतराष्ट्रीय मंच और देशो से मदद मांग रही है। आईएमएफ के साथ पाकिस्तान सरकार की बातचीत चल रही है। अगर आईएमएफ पाकिस्तान की मदद के लिए राजी हो गया तो इमरान खान सरकार के कार्यकाल से रुके हुए बेलआउट प्रोग्राम की, अगली 1.1 करोड़ डॉलर की किश्त जारी कर दी जाएगी, जिसकी पाकिस्तान को सख्त जरूरत भी है। खैर अब देखने वाली बात ये होगी कि क्या पाकिस्तान की आखिरी उम्मीद आईएमएफ पाकिस्तान को इस संकट में मदद करेगा या नही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here